Bihar Pragati

Advertise with us

दोस्तों अगर आप हमारे ईस न्यूज पोर्टल पर स्वयं का प्रचार चलाना चाहते है, तो बस आपको कुछ तथ्यों को ध्यान में रखना होगा,
जिससे की आप बेहतर तरीके से प्रचार चला सके | तो चलिए एक - एक कर उन सभी तथ्यों को जानने का प्रयास करते है |

♥ हमेशा पूछे जाने वाले प्रश्न...
1. प्रचार चलाने के सारांश ?
2. प्रचार चलाने के लिये क्या करना होगा ?
3. Advertise Panel कैसा होगा ?
4. Advertise कब तक चलाया जा सकता है ?
5. Advertise Charging का Logic क्या है ?
6. Advertise Website के किस भाग में show करेगा ?

1. प्रचार चलाने के सारांश ?

हमारे न्यूज पोर्टल पर स्वयं का प्रचार चलाने का सबसे मुख्य और अच्छी बात यह है, की इसका सारा Control आपके हाथ में होगा, जैसे की...
☛ हमारा Banner कैसा होगा ?
☛ आपकी जब इच्छा होगा, तब आप Banner बदल सकते है |
☛ अलग - अलग दो size में Banner लगा सकते है |
☛ कितना बार Banner Display हुआ है |
☛ कितना बार Banner पर Click हुआ है |
☛ ईस प्रकार की सभी जानकारियाँ Real - Time की जानकारियाँ होगी |
तथा इसके अलावा और भी बहुत सी जानकारियों प्राप्त करने के साथ - साथ और भी बहुत कुछ कर सकते है |

2. प्रचार चलाने के लिये क्या करना होगा ?

प्रचार चलाने के लिये सबसे पहले आपको एक खाता बनाना (Account Register) होगा | जहाँ पर आपको कुछ ईस प्रकार से Registration form fill up करने को मिलेगा |

जब आपका सफलतापूर्वक खाता बना लेते है, तब आपको इसके आगे के Steps को follow करना होगा |

3. Advertise Panel कैसा होगा ?

जैसे ही सफलतापूर्वक खाता बना लेते है, तब आपको Advertise Control Panel दिया जाता है |
जिसकी मदद से आप उन सभी कार्यों को सफलतापूर्वक कर सकते जो आपको Advertise चलाने के लिये आवश्यक हो |
जैसा की आप Advertise Control Panel Look and Feel देखकर आसानी से समझ सकते है |

4. Advertise कब तक चलाया जा सकता है ?

Advertise आपका तब - तक चलेगा, जब - तक आपके Website के Account में Balance है | या जब - तक की आप स्वयं प्रचार चलाना रोक नहीं देते है | जैसे की जो भी प्रचार आपका चलेगा, किसी एक Advertise Charge का जो भी Logic होगा, उसके हिसाब से आपका Balance Deduct होते रहेगा |
इसका मतलब यह हुआ की प्रचार चलाना या नहीं चलाना यह आपके Control में है |
अपनी इच्छा के अनुसार प्रचार को चलाइए या रोकिये |

5. Advertise Charging का Logic क्या है ?

अब हम जैसे की Advertise Charging Logic की बात करे, तो कुछ ईस प्रकार से हो सकता है |
1. CPV (Cost Per View प्रति दृश्य लागत): इसका मतलब यह हुआ की, Charge Per View के हिसाब से लिया जायेगा |
Cost Per View
जैसे की ...
1 /view = 10 पैसा
10/view = 1 रुपया
100/view = 10 रुपया

2. CPC (Cost Per Click प्रति क्लिक लागत): इसका मतलब यह हुआ की, Charge Per Click के हिसाब से लिया जायेगा |
Cost Per Click formula
जैसे की ...
1 /click = 50 पैसा
10/click = 5 रुपया
100/click = 50 रुपया
Cost Per Click
तथा अन्य प्रकार Advertise Charging का Logic हो सकते है |

Note:- यह वक्त के अनुसार बदलते भी रहता है, जो की क्या CPV या CPC का क्या Rate चल रहा है, वह आपको Panel में देखने को मिल जायेगा | और जो Advertise जिस Rate से चल रहा होता है, उसमे कोई Rate बढ़ने का कोई प्रभाव नहीं पड़ेगा |

6. Advertise Website के किस भाग में show करेगा ?

Advertise Website के हर उस भाग में देखने को मिलेगा, जहाँ पर प्रचार लगाना सही हो,
और ज्यादा से ज्यादा Visitors आपके प्रचार को देख सके या देखने के बाद click करने के ज्यादा संभावना बन सके |
प्रचार ईस बात को ध्यान में रखकर भी लगाया गया है, जिससे की Visitors जिस Moto से आया है, उसके लिये उसे कोई दिक्कत न हो सके |

Note:- किसी भी प्रकार की समस्या हो तो संपर्क करे |

Bihar Pragati

Related Post